Breaking

Jan 12, 2023

पांच हजार रुपए की रिश्वत लेते दारोगा रंगे हाथ गिरफ्तार, पकड़े जाने पर टीम के आगे गिड़गिड़ाता रहा।

आपने एक कहावत तो सुनी होगी कि आया ऊंट पहाड़ के नीचे संभल में तैनात दरोगा धर्मेंद्र सिंह तोमर के साथ ठीक वही हुआ स्थानांतरण के बावजूद शिकायतकर्ता को कार्यवाही का भय दिखा कर रिश्वत लेते समय दारोगा को भ्रष्टाचार निरोधक शाखा की टीम ने रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ लिया । वह मुकदमे में धारा हटाने के नाम पर पांच हजार की रिश्वत ले रहे थे। रिश्वतखोर दरोगा के खिलाफ विधिक कार्रवाई करते हुए जेल भेजे जाने की तैयारी की जा रही है। मामला गुन्नौर तहसील के थाना जुनावई का है।

 भ्रष्टाचार निरोधक दल के प्रभारी विजय कुमार सिंह के पास पिछले दिनों इस मामले की शिकायत आयी थी जिस पर टीम ने आरोपी दरोगा को पकड़ने हेतु जाल बिछाया था विजय कुमार सिंह नेतृत्व में टीम ने बुधवार को दरोगा धर्मेंद्र सिंह तोमर को पांच हजार की रिश्वत के साथ रंगे हाथ गिरफ्तार कर लिया। आरोपी दरोगा अपराध नंबर 322 की विवेचना कर रहा था। जिसका मुकदमा 31 दिसंबर 2022 को सत्य प्रकाश आदि के खिलाफ दर्ज हुआ था। हालांकि मुकदमा दर्ज होने से पहले चौकी पर ही दोनों पक्षों में समझौता हो गया था । जिसके बाद सत्य प्रकाश 8 जनवरी को चौकी पर दरोगा से मिला था। तब दरोगा ने कहा था कि वह उस पर लगी धारा 452 को हटा देंगे, लेकिन उसके बदले में वह उन्हें पांच हजार रुपए देना होगा।
 इस बीच दरोगा का तबादला थाना बनियाठेर में हो गया और 10 जनवरी को वहां कार्यभार भी संभाल लिया। दरोगा के द्वारा रिश्वत की मांग किए जाने के बाद सत्य प्रकाश एंटी करप्शन टीम से शिकायत की। आज टीम ने थाना जुनावई क्षेत्र में डॉक्टर तोमर के क्लीनिक के पास दरोगा को पांच हजार की रिश्वत के साथ गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तारी के दौरान संभल का रिश्वतखोर दरोगा एंटी करप्शन टीम के आगे रोता गिड़गिड़ाता रहा, परंतु टीम उसे घसीटते हुए कोतवाली गुन्नौर ले आई। जहां रिश्वतखोर दरोगा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया।

 एंटी करप्शन टीम प्रभारी विजय कुमार सिंह ने बताया कि थाना जुनावई में तैनात रहे सब इंस्पेक्टर धर्मेंद्र सिंह तोमर अपराध नंबर 322 की विवेचना कर रहे थे। जिसमें धारा 452 को हटाने के नाम पर पांच हजार रुपए की मांग की थी। भ्रष्टाचार निरोधक की टीम ने 5000 की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोच लिया।

No comments: