Breaking












Dec 23, 2022

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की नजर अब ईसाई समुदाय पर, पहली बार क्रिसमस भोज पर होगा शामिल।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ परिवार ईसाई समुदाय को जोड़ने की कोशिशों में जुटा है। अब पहली बार अल्पसंख्यक मामलों के केंद्रीय राज्य मंत्री जॉन बारला मेघालय हाउस में शुक्रवार को क्रिसमस भोज की मेजबानी करेंगे। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े राष्ट्रीय ईसाई मंच के इस कार्यक्रम में जम्मू-कश्मीर से केरल तक के चर्च प्रमुख भाग लेंगे। RSS के वरिष्ठ नेता इंद्रेश कुमार के भी कार्यक्रम में शामिल होने की संभावना है।

ये पहली बार होगा जब राष्ट्रीय ईसाई मंच की ओर से उत्तरप्रदेश और मध्यप्रदेश के चर्च प्रमुखों को भी आमंत्रित किया जा रहा है, जहां पिछले कुछ समय से पादरियों, चर्चों और ईसाइयों के कुछ संस्थानों पर हमलों की घटनाएं सामने आईं हैं।

भाजपा नेताओं का मानना है कि चर्च और चर्च प्रमुखों को भी राजनीतिक रूप से तटस्थ रहना चाहिए। ईसाई समुदाय भी यही कहता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी बार बड़ी जीत के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और भाजपा के साथ दूरी रखना ठीक नहीं है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ परिवार ने चर्च प्रमुखों को ये बता दिया है कि वे वोट बैंक की राजनीति का हिस्सा ना बने

जम्मू-कश्मीर में ईसाई प्रतिनिधियों को आमंत्रण देकर बड़ा दांव चला जम्मू-कश्मीर के ईसाई प्रतिनिधियों को न्योता दिया है। कश्मीर में मुस्लिम बहुल आबादी को देखते हुए इसे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का एक बड़ा राजनीतिक दांवपेंच भी माना जा रहा है। 2011 की जनगणना के आंकड़ों के अनुसार जम्मू-कश्मीर की लगभग 1.25 करोड़ की आबादी में लगभग 36 हजार ईसाई हैं।

• केरल में भी तकरीबन बीस प्रतिशत ईसाई वोटर भाजपा के लिए फायदेमंद सौदा साबित हो सकते हैं केरल की लगभग साढ़े तीन करोड़ की आबादी में लगभग अठारह प्रतिशत ईसाई मतदाता हैं। इस राज्य में भाजपा अपनी पैठ बढ़ाने के प्रयास में है। 2021 के विधानसभा चुनाव में यहां भाजपा को बारह प्रतिशत वोट मिले थे। जबकि 2016 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को ग्यारह प्रतिशत मत प्राप्त हुए थे।

- पूर्व के तीन राज्यों में 70 प्रतिशत ईसाई वोटरों  को साधने का प्रयास उत्तर-पूर्व के मेघालय, नगालैंड और मिजोरम में 70% ईसाई आबादी है। इन राज्यों में भाजपा अपने बूते सरकार बनाने के प्रयास में है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल में पूर्वोत्तर की सभाओं में ईसाई धर्मगुरु पोप फ्रांसिस की प्रस्तावित भारत यात्रा का विशेष तौर पर उल्लेख अपने भाषण में किया था।

No comments: