Breaking

Jan 19, 2023

बजरंग पूनिया का बड़ा दावा कहा कि हमारे साथ कई पीड़िताओं का समर्थन ,हर हाल में भारतीय कुश्ती संघ को भंग करायेगें।

 भारतीय कुश्ती महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन थमने का नाम नहीं ले रहा है आज पूर्व ओलंपियन गीता फोगाट और उनकी छोटी बहन भाजपा नेता बबीता फोगाट ने भी धरना प्रदर्शन को अपना समर्थन दिया है देश के महिला पहलवानों ने मोर्चा खोल दिया है। बृजभूषण शरण सिंह और कुछ कोच पर ओलिंपिक विजेता खिलाड़ियों ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। दिल्ली के जंतर-मंतर पर 200 से अधिक खिलाड़ी बुधवार यानी 18 जनवरी से धरना-प्रदर्शन कर रहे हैं। गुरुवार को भी उनका प्रदर्शन जारी रहा।

दूसरी तरफ इस तरह के गंभीर आरोपों के बाद खेल मंत्रालय भी मामले को लेकर तुरंत सक्रिय हो गया। बुधवार देर रात कुश्ती संघ को भेजें गये नोटिस में 72 घंटे में अपना पक्ष रखने को कहा। लापरवाही करने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दे डाली। इधर, गुरुवार को मंत्रालय ने पीड़ित खिलाड़ियों को बातचीत के लिए बुलाया और उनसे करीब एक घंटे तक बंद कमरे में वार्ता हुई । मीटिंग खत्म होने के बाद पहलवानों ने मीडियाकर्मियों से बातचीत की। 

बजरंग पूनिय ने कहा कि हमारे साथ लगभग सभी भारतीय पहलवान हैं और हमें उनका समर्थन प्राप्त  हैं। अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह ने कहा था साबित होने पर फांसी पर लटक जाउंगा। पहले हमारे साथ दो लड़कियां थी अब हमारे साथ साक्ष्यों के साथ 6-7 लड़कियां हैं, जिनके साथ कुश्ती संघ के अध्यक्ष ने शोषण किया है। हम किसी भी हालत में पीछे नहीं हटेंगे। हम सिर्फ इस्तीफे से संतुष्ट नहीं होंगे। हम फेडरेशन को भंग कराना चाहते
महिला पहलवान विनेश फोगाट ने कहा हमारा एक-एक दिन बेहद कीमती है। बैठक में हमें ठोस आश्वासन  नहीं मिला है। हमारे जो आरोप है, वो सच हैं। हमें मजबूर न किया जाए सबके सामने आने के लिए। हम अपने सम्मान के लिए लड़ रहे हैं। हम पूरे देश को यह बताना नहीं चाहते कि देश की बेटियों के साथ क्या हुआ है। जिस दिन सारी लड़कियां मीडिया को बताएंगी कि हमारे साथ क्या हुआ, वो देश की कुश्ती का दुर्भाग्य होगा।
साथ में यह भी कहा कि हम अध्यक्ष का इस्तीफा भी चाहते हैं और अध्यक्ष को जेल भी भिजवाएंगे। हमारे साथ बहुत गलत हुआ है। हम बिना सबूत यहां नहीं बैठे हैं। अध्यक्ष दो मिनट मेरे सामने आंखों में आंखों में डाल कर बोल दें कि गलत नहीं किया है। हमारी लड़ाई लड़कियों को शोषण से बचाना है। अगर हम जैसे लोग भी सुरक्षित नहीं हैं तो हिंदुस्तान में एक भी लड़की का जन्म नहीं होना चाहिए। अध्यक्ष ने तो उत्तर प्रदेश से  कुश्ती खत्म कर दी है। अगर हमारी मांग नहीं मानी गई तो हम इन लड़कियों के साथ मुकदमा दर्ज कराएंगे।

 ओलंपिक में कांस्य पदक विजेता साक्षी मलिक ने कहा कि बैठक में हमें सिर्फ आश्वासन दिया गया है। हम इस तरह के आश्वासन से संतुष्ट नहीं है। हमें ठोस कार्रवाई चाहिए।

No comments: