Breaking

Dec 20, 2022

सुशासन सप्ताह-प्रशासन गांव की ओर’’ का जायजा लेने नगरौर पहुंचे डीएम जन्म प्रमाण पत्र के लिए 02 माह की जुड़वा बच्चियों का अपने समक्ष कराया पंजीकरण

शासकीय योजनाओं से पात्र लोगों को लाभान्वित करने के दिये निर्देश 

बहराइच । शासन के निर्देश पर जनपद में 19 से 25 दिसम्बर 2022 तक आयोजित होने वाले ‘‘सुशासन सप्ताह-प्रशासन गांव की ओर’’ कार्यक्रम के अन्तर्गत विकास खण्ड चित्तौरा के ग्राम नगरौर के पंचायत भवन में आयोजित चौपाल का जिलाधिकारी डॉ दिनेश चन्द्र ने निरीक्षण कर मौजूद ग्रामवासियों से केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों का लाभ प्राप्त करने तथा जनससमयाओं के निस्तारण के सम्बंध में फीड बैक प्राप्त किया। जिलाधिकारी डॉ चन्द्र ने दो माह की जुड़वा बच्चियों गौशिया व तयैबा का अपने समक्ष जन्म प्रमाण पत्र का पंजीकरण कराया।‘‘सुशासन सप्ताह-प्रशासन गांव की ओर’’ कार्यक्रम के निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने खण्ड विकास अधिकारी व अन्य सम्बन्धित अधिकारियों, कर्मचारियों को निर्देश दिया कि चौपाल के दौरान ग्रामवासियों द्वारा बतायी गयी समस्याओं को नोटकर उसका समयबद्धत्ता के साथ गुणवत्तापरक निस्तारण कराया जाय। साथ ही केन्द्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं एवं कार्यक्रमों से पात्र लोगों को लाभान्वित भी किया जाय। निरीक्षण के दौरान पीडीडीआरडीए पी.एन. यादव, खण्ड विकास अधिकारी चित्तौरा संदीप कुमार त्रिपाठी, संयुक्त बीडीओ सूर्य प्रकाश मिश्रा, एडीओ सहकारिता अमर सिंह, ग्राम पंचायत अधिकारी ओम प्रकाश यादव, प्रभारी चिकित्साधिकारी चित्तौरा डॉ कुंवर रितेश, एडीओ पंचायत विधानचन्द्र, एडीओ महिला ज्योति सिंह, ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सलीम सहित अन्य सम्बन्धित मौजूद रहे।  इसी प्रकार तहसील व ब्लाक मुख्यालय तथा ग्राम पंचायत स्तर पर विशेष शिविर का आयोजन कर कृषक दुघर्टना सहायता योजना, मा. मुख्यमंत्री खेत-खलिहान अग्निकाण्ड दुघर्टना सहायता योजना, लोक सम्बोधन प्रणाली के लिए अनुज्ञा, निवास, जाति, आय, जन्म, मृत्यु प्रमाण पत्र, खतौनी की नकल, रोजगार पंजीकरण व नवीनीकरण, कुटुम्ब रजिस्टर की नकल, वृद्धा पेंशन, असहाय व्यक्तियों के इलाज तथा उनकी पुत्री की शादी के लिए वित्तीय सहायता, राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना, सामान्य पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, जनजाति, छात्रवृत्ति, विधवा पेंशन, दम्पत्ति पुरस्कार योजना, दहेज प्रथा से पीड़ित महिलाओं को आर्थिक सहायता, विधवा महिला की पुत्री की शादी हेतु अनुदान, विकलांग पेंशन, विकलांग व्यक्तियों को बनावटी अंग लगवाने हेतु, विकलांग व्यक्तियों के पुर्नवास हेतु ऋण अनुदान की सुविधा, विकलांग व्यक्तियों के विवाह करने पर अनुदान, विकलांग प्रमाण पत्र इत्यादि सेवाएं प्रदान की जा रही है। 


No comments: