Breaking












Sep 26, 2022

कांटों भरा ताज बना बीडीओ विक्रमजोत ब्लॉक की कुर्सी

बस्ती। जिला के बीडीओ विक्रमजोत ब्लॉक की कुर्सी अधिकारियों के लिए कांटों भरा ताज बन चुकी है। वर्तमान ब्लॉक प्रमुख के मात्र डेढ़ साल के कार्यकाल में छह बीडीओ बदल चुके हैं। पिछले एक माह से बीडीओ की कुर्सी खाली चल रही है। क्षेत्र में अब इस बात की चर्चा है कि किसके खौफ से अधिकारी विक्रमजोत ब्लॉक आना ही नहीं चाहते हैं। बीडीओ के न रहने से ब्लॉक में विकास कार्यों की हालत दिन-प्रतिदिन खराब होती जा रही है।

जानकारों का कहना है कि जिले के आला अधिकारी भी अब बीडीओ की तैनाती को लेकर उदासीन हो चुके हैं, इसके पीछे ब्लॉक का खौफ भरा माहौल मुख्य वजह बताई जा रही है। चर्चा है कि पिछले महीने ब्लॉक दिवस पर तत्कालीन बीडीओ से प्रमुख की तकरार के बाद बीडीओ मेडिकल पर चले गए। डीडीओ अजीत कुमार श्रीवास्तव को अतिरिक्त चार्ज दिया गया, लेकिन आज तक वह चार्ज लेने पहुंचे ही नहीं। एडीओ सहकारिता को चार्ज दिया गया है, वह काम चलाऊ काम ही निपटा रहे हैं। बताया जा रहा है कि मनरेगा का कच्चा काम बस्ती से बीडीओ अनिल कुमार देख रहे हैं।    

           विक्रमजोत ब्लॉक का नाम सुनते ही अधिकारियों के पसीने छूटने लगते हैं। वहां डेढ़ साल में एक बीडीओ ने दो बार चार्ज लिया। दो बीडीओ तैनाती के बाद न जाने किस वजह से चार्ज लेने ही नहीं गए। प्रमुख के शपथ ग्रहण के समय बीडीओ श्वेता वर्मा थी। उसके बाद शैलेश दूबे व संजय नायक आए। नवम्बर 2021 में अनिल कुमार यादव की तैनाती हुई। दो माह पहले उनका स्थानांतरण हो गया। सुशील कुमार कौशल की तैनाती हुई, लेकिन वह ज्वाइन करने ही नहीं आए, इसके बाद दोबारा अनिल यादव को भेजा गया, उनसे ब्लॉक दिवस पर प्रमुख से तकरार हो गई तो वह मेडिकल लेकर अवकाश पर चले गए। वहां की हालत सुधारने के लिए डीडीओ को ब्लॉक का चार्ज लेने को निर्देशित किया गया, लेकिन वह भी नहीं गए। बीडीओ न होने से एक साल से चार दर्जन से ज्यादा गांव के मनरेगा के पक्के काम का भुगतान लटका हुआ है। प्रधान से लेकर मजदूर तक परेशान हैं।

ब्लाक प्रमुख का कहना है।
जल्द ही बीडीओ की तैनाती हो जाएगी। विकास कार्य प्रभावित नहीं होने पाएगा। पूर्व में तैनात बीडीओ शासन के निर्देशानुसार रूटीन ट्रांसफर में स्थानांतरित हुए हैं। यहां किसी प्रकार की समस्या नहीं है। सभी एक-दूसरे का सहयोग कर रहे हैं।    

            रुधौली बस्ती से अजय पांडे की रिपोर्ट

No comments: