Breaking







Jun 14, 2023

मेधावियों को सम्मानित कर बढाया उत्साह, 23 मेधावी हुए सम्मानित

छात्रों के भविष्य पर टिका है देश का भविष्य - सांसद
        माध्यमिक शिक्षा परिषद,उ0प्र0 प्रयागराज द्वारा आयोजित हाईस्कूल/इण्टरमीडिएट परीक्षा वर्ष 2023 के राज्य स्तरीय एवं जनपद स्तरीय मेधावी छात्रों को टैबलेट तथा पुरस्कार की धनराशि से सम्मानित करने हेतु जिला पंचायत सभागार,गोण्डा में बुधवार को सम्मान समारोह कार्यक्रम आयोजित किया गया।  
         कार्यक्रम में 04 राज्य स्तरीय मेधावी छात्र-छात्राओ को धनराशि एक लाख मात्र,एक टैबलेट,एक प्रशस्त्रि पत्र व मेडल, तथा 19 जनपद स्तरीय मेधावी छात्र-छात्राओं को धनराशि इक्कीस हजार रूपये, टेबलेट, प्रशस्त्रि पत्र प्रदान किया गया। उपरोक्त कार्यक्रम मे हाईस्कूल परीक्षा 2023 उत्तीर्ण 10 मेधावी विद्यार्थी, तथा इण्टरमीडियट परीक्षा 2023 उत्तीर्ण 13 मेधावी विद्यार्थियो (राज्य स्तर हाईस्कूल-3,इण्टर-1,जनपद स्तर हाईस्कूल-7 इण्टर-12 मेधावी विद्यार्थी) को सम्मानित किया गया है। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कीर्ति वर्धन सिंह, सांसद गोण्डा, विशिष्ठ अतिथि धनश्याम मिश्रा ,अध्यक्ष जिला पंचायत गोण्डा रहे। कार्यक्रम की अघ्यक्षता जिलाधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी द्वारा की गई।

         इस कार्यक्रम मे अमर उजाला दैनिक समाचार पत्र द्वारा भी मेधावी बच्चो को प्रशस्त्रि पत्र,मेडल व पुस्तके वितरित कर सम्मानित किया गया, 
           इन मेधावियों का हुआ सम्मान 
मेधावी सम्मान समारोह में हाईस्कूल की तृप्ति मिश्रा, प्रतिमा द्विवेदी, रचित शुक्ल तथा इंटरमीडिएट की अवंतिका सिंह को एक - एक लाख रूपये प्रोत्साहन राशि के साथ टैबलेट प्रमाण पत्र व मेडल से सम्मानित किया गया। साथ ही मेधावी संदीप कुमार गोस्वामी, आरजू यादव, लक्ष्य सोनी, ऋषि यादव, सत्येंद्र जायसवाल, काजल गुप्ता, सौरभ गुप्ता, मुस्कान प्रजापति, शशांक शेखर मिश्र, बबिता शर्मा, आकांक्षा सिंह, शिवानी गोस्वामी, सदल मसऊद, किशन मिश्र, शिवानी यादव, कोमल, श्रीकृष्ण तिवारी, समीर तिवारी, आंचल यादव को 21-21 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि के साथ ही टैबलेट, मेडल व प्रमाण पत्र से सम्मानित किया गया।
          इस दौरान सांसद ने कहा कि बच्चों के भविष्य पर देश का भविष्य टिका है। पहले की सरकारों में शहर तक ही  शिक्षा थी परन्तु अब गांवों में शिक्षा पहुंच रही है।' 

 👉जिलाधिकारी ने मेधावियों को तकनीक के प्रयोग की दी सलाह, कहा एप से बनाए नई राह

👉मेधावियों को आगे बढ़ने में नहीं होगी परेशानी, शासन कर रही विशेष इंतजाम
 
 👉पंख पोर्टल से घर बैठे मिल सकेगी कैरियर काउंसिल, प्रज्ञान से ई - लाइब्रेरी

 👉प्रतिभाओं की कमी नहीं, जरुरत है उन्हें तराशने की
 
         प्रतिभाओं की कमी नहीं है जरूरत है उन्हें तराश कर आगे अवसर देने की। इसके लिए माध्यमिक शिक्षा माडल बनेगा। प्रदेश सरकार की मंशा है कि मेधावियों को अवसर मिले। इसके लिए तकनीक का प्रयोग से सहज व्यवस्था बनी है। हर गांव के विद्यार्थी भी कॅरिअर काउंसिलिंग करवा सकेंगे, इसके लिए उन्होने एक्सपर्ट के तौर पर नई पहल की शुरुआत कर दी है। 
        बोर्ड परीक्षा के मेधावियों को सम्मान समारोह में जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने मेधावियों को सम्मानित करते हुए आगे बढ़ने की राह दिखाई। माध्यमिक शिक्षा विभाग के कॅरिअर काउंसिलिंग के लिए पंख पोर्टल का लांच किया है। जिसे यूनिसेफ की मदद से बनाया गया है। कक्षा-10 तथा कक्षा-12 के बाद कॅरिअर में मदद करने के लिए ‘पंख’ पोर्टल है। ‘प्रज्ञान’ ई लाइब्रेरी पोर्टल है। ‘परख’ के माध्यम से स्कूलों की ग्रेडिंग होगी और ‘पहचान’ के माध्यम से हर स्कूल का वेबपेज देखा जा सकेगा। पहुंच इस पोर्टल की मदद से स्कूल खोलने के लिए क्षेत्र चुनने में मदद मिलेगी।
         पंख पोर्टल को यूनिसेफ की मदद से बनाया गया है। इसमें यूपी बोर्ड का पंजीकरण नंबर और विषय डालने पर इससे संबंधित कॅरिअर की गाइडेंस मिलेगी। इससे गांव-कस्बों के बच्चों को अपने विषय से संबंधित कई तरह के कॅरिअर की जानकारी मिलेगी। इसमें किस तरह के कोर्स किए जा सकते हैं और भविष्य में इसमें आगे बढ़ने की क्या संभावनाएं हैं, इसकी जानकारी भी मिलेगी। पंख विद्यार्थियों के कॅरिअर गाइडेन्स के लिए यह पोर्टल बनाया गया है। विद्यार्थी कॉलेज, छात्रवृत्ति, कौशल विकास कार्यक्रम, इंटर्नशिप और शिक्षा के विषय में उपलब्ध विकल्पों के बारे में बेहतर सलाह ले सकेंगे। राजकीय व एडेड के लिए निशुल्क सलाह दी जाएगी।
--------------
स्कूलों की पहचान के साथ पहुंच की व्यवस्था भी आनलाइन जिलाधिकारी नेहा शर्मा ने मेधावियों का उत्साहवर्धन किया और कहा कि सम्मान के साथ मिले टैबलेट का प्रयोग आगे बढ़ने के लिए करें। उन्होंने बताया कि यूपी बोर्ड ने अपनी व्यवस्थाओं को ऑनलाइन करने के लिए पंख के साथ ही पांच पोर्टल तैयार किए हैं। स्कूलों की वस्तुस्थिति जानने के लिए पहचान पोर्टल भी लांच किया जाएगा। वहीं पहुंच पोर्टल के माध्यम से माध्यमिक शिक्षा के स्कूलों की मैपिंग की जानकारी मिल सकेगी। इससे नए स्कूलों को खोलने के लिए मदद ली जाएगी। स्कूलों की मैपिंग के लिए पहुंच पोर्टल को विकसित किया गया है। इससे माध्यमिक विद्यालयों की स्थापना की व्यवस्था और अधिक पारदर्शी होगी।स्कूल मैपिंग का पोर्टल पहुंच, ऑनलाइन मॉनिटरिंग व स्कूल ग्रेडिंग का पोर्टल परख, ई लाइब्रेरी का पोर्टल प्रज्ञान भी लांच किया। 
अब गाँव में घर बैठे युवाओं को बेहतर ट्रेनिंग और सही जानकारी दी जा सकेगी। प्रज्ञान ई लाइब्रेरी पोर्टल को प्रज्ञान नाम दिया गया है। यह एप में भी उपलब्ध है। ई-पुस्तकों के विशाल संग्रह के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं, उद्यमिता व स्टार्टअप, एनआईसी ई-ग्रन्थालय एवं उप्र लाइब्रेरी नेटवर्क की जानकारी उपलब्ध है। परख किस राजकीय विद्यालय में क्या संसाधन है, वह इस पोर्टल पर दिखेगा। शिक्षण कार्य की प्रगति, शिक्षक एवं शिक्षणेत्तर कर्मचारियों की उपस्थिति और भौतिक संसाधनों की उपलब्धता का ऑनलाइन मॉनिटरिंग व राजकीय विद्यालय की ग्रेडिंग इससे होगी। पहचान यूपी बोर्ड ने हर स्कूल का वेबपेज बनाया गया है। इस वेबपेज पर स्कूल में छात्र पंजीकरण, स्टाफ विवरण, सुविधाएं, विविध क्षेत्रों में प्रदर्शन, परीक्षा परिणाम और विशिष्ट उपलब्धि इत्यादि की जानकारी मौजूद है।
           इस अवसर पर मा० जिला पंचायत अध्यक्ष श्री घनश्याम मिश्र, माननीय सांसद गोंडा श्री कीर्तिवर्धन सिंह, मुख्य विकास अधिकारी एम. अरून्मोली, जिला विद्यालय निरीक्षक राकेश कुमार जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी अखिलेश प्रताप सिंह, जिला पंचायत अधिकारी राजेश चौधरी सहित विद्यालयों के प्रधानाचार्य एवं अन्य सभी संबंधित अधिकारीगण उपस्थित रहे।
रिपोर्ट-मुन्नू सिंह

No comments: