Breaking

Oct 11, 2022

राहत व बचाव कार्यों का किया जाय प्रभावी पर्यवेक्षण: स्वतन्त्र देव सिंह




बहराइच । अप्रत्याशित भारी वर्षा के दृष्टिगत आयी बाढ़ के कारण जनपद में संचालित राहत व बचाव कार्यों की समीक्षा हेतु कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक के दौरान मा. मंत्री, जल शक्ति विभाग श्री स्वतन्त्र देव सिंह ने प्रदेश के आपदा राहत आयुक्त प्रभु एन. सिंह व प्रमुख अभियन्ता एवं विभागाध्यक्ष सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग मुश्ताक अहमद के साथ सांसद बहराइच अक्षयवर लाल गोंड, एमएलसी डॉ. प्रज्ञा त्रिपाठी, विधायक महसी सुरेश्वर सिंह, बलहा की श्रीमती सरोज सोनकर व नानपारा के राम निवास वर्मा की मौजूदगी में जिले के अधिकारियों के साथ बैठक कर निर्देश दिया कि मा. मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी की मंशानुरूप आपदा प्रभावित व्यक्तियों को हर संभव त्वरित सहायता प्रदान की जाय। 

मा. मंत्री श्री सिंह ने जनपद में संचालित होने वाले राहत व बचाव कार्यों के लिए जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र के प्रयासों की सराहना करते हुए अन्य अधीनस्थ अधिकारी का आहवान किया के वे भी डीएम का अनुसरण करते हुए पूरे मनोयोग से बाढ़ प्रभावितों को शासन की मंशा के अनुरूप त्वरित राहत पहुॅचाएं। श्री सिंह ने कहा कि आग, बाढ़, तूफान व भूकम्प जैसी दैवीय आपदा को रोका तो नहीं जा सकता है परन्तु प्रभावित लोंगों की त्वरित मदद कर उन्हें राहत अवश्य पहुॅचायी जा सकती है। श्री सिंह ने अधिकारियों का आहवान किया कि राहत व बचाव कार्यों में मानवीय संवेदना के पहलू को नज़रअंदाज़ न किया जाय। आपदा व राहत कार्यों के लिए धन की कमी आड़े नहीं आने दी जायेगी।

श्री सिंह ने कहा कि हमारा घ्येय यही है कि आपदा के दौरान सभी के सहयोग से सभी को राहत मिले। मा. मंत्री ने सुझाव दिया कि राहत व बचाव कार्यों के मैकेनिज़्म डेवलप कर प्रभावी पर्यवेक्षण किया जाय। प्रत्येक दिन कन्ट्रोल रूम के माध्यम से प्रभावित ग्रामों के ग्राम प्रधानों व सचिवों से बचाव व राहत कार्याे की फीड बैक प्राप्त कर तदनुसार अग्रिम कार्यवाही की जाय। क्षेत्र में प्रशासनिक कुशलता के साथ अधिकारियों एवं कर्मचारियों को तैनात किया जाय कि अधिक से अधिक लोगों तक पहुॅच सुनिश्चित हो सके। राहत व बचाव कार्याे के लिए पंचायत राज विभाग द्वारा 145 नावों के संचालन की जानकारी पर श्री सिंह ने सत्यापन कराये जाने का निर्देश दिया।  

मा. मंत्री श्री सिंह ने मानव आबादी व बाढ़ के पानी के बीच लाईफ लाइन की भूमिका निभाने वाले तटबन्धों की सतत् निगरानी रखने का निर्देश दिया। जनपद में स्थित तटबन्धों की स्थिति पर संतोष व्यक्त करते हुए श्री सिंह ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिया कि हर हाल में बन्धों को सुरक्षित रखें तथा बाढ़ की सुरक्षा के दृष्टिगत यदि भविष्य में और तटबन्ध की आवश्यकता हो तो इसके लिए कार्ययोजना शासन को उपलब्ध करा दी जाय। मा. मंत्री ने कहा कि बैठक से पूर्व मैंने बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वें कर स्थिति का जायज़ा लिया है। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिया कि बाढ़ के उपरान्त संक्रामक रोगों की रोकथाम, मनुष्यों एवं पशुओं के उपचार के लिए भी व्यापक कार्ययोजना तैयार कर ली जाय। मा.ं मंत्री ने सामाजिक संगठनों, समाजसेवियों, जनप्रतिनिधियों तथा जनता जनार्दन से प्रभावित लोगों की मदद को आगे आने का आहवान भी किया।

बैठक के दौरान राहत आयुक्त श्री सिंह ने कहा कि जिले में बेहतर बचाव एवं राहत कार्य संचालित किये जा रहे है सभी अधिकारी एक टीमभावना के साथ प्रभावित लोगों को और बेहतर हर सम्भव सहायता प्रदान करने का प्रयास करें। उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि बाढ़ के दौरान हुए क्षति का आकलन समय से उपलब्ध कराया जाय ताकि प्रभावित लोगों को शासन द्वारा अनुमन्य क्षतिपूर्ति मुहैया कराया जा सके। बैठक में सांसद बहराइच श्री गोड़ ने कटान, पर्याप्त नावों के डिप्लायमेण्ट, विधायक महसी श्री सिंह ने बेलहा-बेहरौली तटबंध के मरम्मत हेतु बजट उपलब्ध कराये जाने तथा विधायक बलहा श्रीमती सोनकर द्वारा भी नावों के डिप्लायमेण्ट के सम्बंध में महत्वपूर्ण सुझाव दिये।

इस अवसर पर जिलाधिकारी डॉ. दिनेश चन्द्र, पुलिस अधीक्षक केशव कुमार चौधरी, मुख्य विकास अधिकारी कविता मीना, अपर जिलाधिकारी मनोज, अपर पुलिस अधीक्षक नगर कुॅवर ज्ञानंजय सिंह व ग्रामीण के अशोक कुमार, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एस.के. सिंह, उप जिलाधिकारी सदर सुभाष सिंह धामी, अधि.अभि. सरयू ड्रेनेज खण्ड शोभित कुशवाहा सहित अन्य अधिकारी व पार्टी पदाधिकारी मौजूद रहे। 

                     :ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः


ःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःःः

No comments: